CGPSC मुख्य परीक्षा 2017-:अगले चार दिन आपके भाग्य का फैसला करेंगे

CGPSC मुख्य परीक्षा 2017-:अगले चार दिन आपके भाग्य का फैसला करेंगे


इस साल के मुख्य परीक्षा के लिए अच्छी तैयारी के बावजूद, आपको आत्म-संदेह जरुर होगा। सभी जिम्मेदार अभ्यर्थी के मन में थोडा डर तो होता ही है । इस परीक्षा से जुड़ी अनिश्चितता इन आत्म-संदेहों को सृजित करेगी ही इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपने पिछले कुछ महीनों या सालों में कितने प्रयास किए हैं।

ये डर इस वजह से हैं कि CGPSC प्रश्न पत्रों की कठिनाई का स्तर अप्रत्याशित होगा ही समय के साथ जैसा की इस वर्ष के प्रारंभिक परीक्षा में भी दिखलाई पड़ा । लेकिन प्रश्न पत्रों की कठिनाई का स्तर जो भी हो, आप वास्तव में मुख्य परीक्षा में बहुत अच्छी तरह प्रदर्शन कर सकते हैं बशर्ते आप कुछ गलतियों से बचें और कुछ नियमों का पालन करें। एक मुश्किल प्रश्न पत्र हर किसी के लिए मुश्किल है। आप एक कठिन पेपर से कैसे निपटते हैं, यह आपके अच्छे अंक प्राप्त करने के संभावनाओं को बहुत हद तक दिशा प्रदान करते हैं । जो दृष्टिकोण अभी सबसे महत्वपूर्ण है या सबसे ज्यादा आपको प्रभावित करेगा ,वह यह नहीं है कि आप कितना जानते हैं, या अतीत में आपको किस तरह की असफलता मिली है।

हमारे अनुभव के आधार पर हम आपको बता सकते हैं कि लगभग सभी टॉपर्स को परीक्षा से कुछ दिन पहले ही निराशा, असंतुष्टि और डर का सामना करना पड़ता है। आप इनमे से कोई अपवाद नहीं हैं। यह एकदम सही बात है कि आपका यह थोड़ा सा नर्वस होना ही यह दिखाता है कि आप एक जिम्मेदार अभ्यर्थी हैं। लेकिन,  कल जब आप जाएँगे  और परीक्षा लिख रहे होंगे  , तो आपको चिंता नहीं करनी चाहिए न ही नर्वस होना चाहिए ।

(आप लोग तो BOLLYWOOD फिल्मे जरुर देखते ही होंगे ? 😆 ) जब आखिरी समय में हीरो विलेन को मारने जाता है तो क्या वह यह देखता है कि ,अरे रायफल भूल गया ! 😡  यहाँ तो विलेन के आदमी मशीन गन रखे हैं ,

या मुस्टंडो को देखकर इस सोच में डूब जाता है कि काश हीरोइन के साथ बगीचे में नाचने से अच्छा दो-चार ज्यादा PUSH-UP(डिब्स ) मार लिया होता या सुबह ज्यादा देर तक सोना छोड़कर 1 महिना जिम कर लिया होता तो नतीजा कुछ और ही होता ?

वो ये सब मुर्खता नहीं करता और अपने अन्दर आत्मविश्वास रखकर पूर्ण ताकत से मार-धार में जुट जाता है  😛 हाँ ये   बात अलग है की बीच में एक बार हीरोइन की एंट्री होती है ……………………  मार करण मार बोलने के लिए  😀 😀 😀 😀

लेकिन आपके परीक्षा में ऐसे बोलने कोई नहीं आएगा ,आपको भी खुद पर भरोसा रखना है और बेहतर उत्तर लिखना शुरू कर देना है ,किसी भी पुराने सोच में डूबने की मुर्खता नहीं करना है  😆 )

 

अगले चार दिनों के लिए, लोभी हो, स्वार्थी हो और निर्दयी रहो । अगले चार दिनों के दौरान आपका एकमात्र उद्देश्य प्रत्येक पेपर में अंकों को अधिकतम करना होना चाहिए । आपके हर एक प्रयास का उद्देश्य प्रत्येक उत्तर में एक अतिरिक्त अंक लाना होना चाहिए। कभी हार न मानने और अच्छी तरह से स्कोर करने की अंत तक कोशिश करने का यह दृष्टिकोण अत्यंत महत्वपूर्ण है।

कई बार ऐसा होता है कि पूरा ध्यान केंद्रित केवल पेपर को पूरा करने पर ही रह जाता है । परन्तु अच्छे अंक लाने पर ध्यान ही नहीं दे पाते । इस पर ध्यान देने से हमारे परिणाम में बहुत ही सकारात्मक प्रभाव दिख सकता है । केवल पेज भरने में पूरा ध्यान केंद्रित करने के अलावा, आपको लगातार बेहतर एवं अतिरिक्त अंक प्राप्त करने के बारे में सोचना चाहिए।

अतिरिक्त या बेहतर अंक उत्तर में उदाहरणों को शामिल करने से आते हैं या विभिन्न उदाहरण लिखने से (आपके उत्तर में एक कथन या बिंदु को प्रमाणित करने / सही ठहराने / सत्यापन करने के रूप में )। वे आपके उत्तरों की बेहतर प्रस्तुति से आते हैं। वे परीक्षा कक्ष में हर क्षण के बुद्धिमत्तापूर्ण उपयोग से आते हैं। आपका दिमाग तब और अधिक शक्तिशाली होता जब उसका उपयोग उसके अंतिम सीमा तक किया जाए । हालांकि थकाऊ होने पर, आपको अपने सभी दिमागी शक्तियों का उपयोग जहां कभी अवसर होता है पूरी तरह केवल अंक प्राप्त करने पर ही ध्यान केंद्रित करने के लिए करना चाहिए (कभी-कभी आपको अवसर पैदा करना चाहिए)।

ऊर्जा के लिए कोल्ड्रिंक , ORS पीएं, चॉकलेट खाएं – परीक्षा कक्ष में तीव्रता से सोचने के लिए ऊर्जा प्राप्त करें। इसके अलावा आपको अपने हाथों में दर्द से निपटने के लिए ऊर्जा की आवश्यकता है। यदि आप कम लिखते हैं, तो आप कम स्कोर करेंगे। आपको उन प्रश्नों के लिए और अधिक लिख सकते हैं जिन्हें आप अधिक जानते हैं। उन प्रश्नों में बेतुका उत्तर को लिखकर ऊर्जा बर्बाद न करें जहां आप बिल्कुल कुछ नहीं जानते हैं। हर स्तर पर ऊर्जा की रक्षा करें।

आपको हमेशा प्रत्येक अंक के मूल्य को याद रखना चाहिए। एक अंक आपके रैंक, सेवा के भाग्य का फैसला कर सकता है।

अंत तक आपको स्वार्थी होना चाहिए। अपनी तैयारी की कीमत पर अपने दोस्तों की मदद करने की कोशिश न करें । केवल तभी सहायता करें जब आपके कार्यों से आप दोनों को लाभ हो। सभी विचलन से बचें। सकारात्मक लोगों के साथ जाएं यदि आपको किसी प्रकार का नैतिक समर्थन चाहिए। लेकिन हमेशा याद रखें कि परीक्षा कक्ष में प्रवेश करने से पहले, दृढ़ संकल्प के साथ प्रवेश करें, उद्देश्य के साथ प्रवेश करें – उच्च अंक स्कोर करने का उद्देश्य।

आप कुछ लोगो को एन्जॉय करते हुए , घूमते हुए, और सह-उम्मीदवारों के साथ जोर से बात करते हुए जरुर देखेंगे । उन पर ध्यान न दें। अंकों को अधिकतम करने के बारे में लगातार सोचें। परीक्षा हॉल में प्रवेश करने से पहले, आपको किसी भी जड़त्व को दूर करने के लिए उस दिन के पेपर से संबंधित विचारों के साथ प्रवेश करना चाहिए। उदाहरण के लिए, निबंध पत्र से पहले, अनुमानित विषय पर 5-10 मिनट के लिए चिंतन -मनन के साथ ही परीक्षा कक्ष में प्रवेश करें।

ऐसा हो सकता है कि आप निबंध पत्र में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं। इस बुरे अनुभव का शेष पेपर्स पर कोई प्रभाव न पड़ने दें। निबंध पत्र के बाद, आपका तत्काल ध्यान अगले पेपर पर होना चाहिए। निबंध में जो लिखा है उस पर चर्चा करने की कोशिश न करें। यह एक पूरी तरह से गलत आचरण है, और अन्य पेपर्स में भी आपके प्रदर्शन को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है।

इस स्तर पर, स्वस्थ और ऊर्जावान रहने को ही प्राथमिकता दें। तैयारी के स्तर से निरपेक्ष रूप में आपको आत्मविश्वास होना चाहिए। आत्मविश्वास के बिना, आप स्पष्ट रूप से नहीं सोच सकते हैं। बहुत गंभीर होने का मतलब यह नहीं है कि आपको मुस्कान नहीं करना चाहिए। आराम से रहें और पूरी प्रक्रिया का आनंद लें।

मुख्य परीक्षा के आपके अंक आपके अंतिम रैंक का निर्णय लेते हैं। आप केवल बहुत अच्छी सामग्री लिखकर ही अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं। महत्वपूर्ण विषयों को अंतिम समय में दोहरा लें । महत्वपूर्ण तथ्यों को याद रखने की कोशिश करें।

इन सबका मतलब यह नहीं की आप सोना ही छोड़ दें । हर रात 6 घंटे के लिए कम से कम सो जाओ। याद रखें, दूसरों से स्मार्ट होने एवं प्रतिस्पर्धा करने के लिए आपको परीक्षा कक्ष में बहुत सारी ऊर्जा की आवश्यकता है। आखिरकार यह एक प्रतियोगिता ही है। अच्छी तरह से प्रदर्शन करने के लिए आपको सामर्थ्य की आवश्यकता है। पूरी रात जागने और पर्याप्त नींद के बिना परीक्षा कक्ष में जाने की मूर्खतापूर्ण बात कभी न सोचें । इससे आप अच्छी तरह से पढ़ तो सकते हैं, लेकिन आप परीक्षा में अच्छी तरह से लिखने में असफल हो जाएंगे।

तैयारी के क्षण में किये हुए अपने सभी कड़ी मेहनत और त्याग को याद रखें। अपने सभी असफलताओं से प्रेरणा प्राप्त करें। अधिक ऊर्जा और उत्साह प्राप्त करने के लिए अपने हर अनुभव (ब्रेक अप, अपमान, अवसाद, निराशा, बलिदान इत्यादि) का प्रयोग करें। अपनी पूरी ताकत झोंक दें ।

99 प्रतिशत लोग कभी भी सर्वश्रेष्ठ होने की कोशिश नहीं करते हैं। वे एक अच्छे और अलग व्यक्ति होने की कोशिश नहीं करते हैं। कम से कम अगले चार दिनों के लिए,सबसे अच्छे होने का प्रयास करें जैसा होने की इच्छा आप रखते हैं । यह आपकी इच्छा शक्ति में है। यदि आप चाहेंगे , तो आप जरुर कर सकते हैं। अपने आप को बहुत आत्मविश्वास से भरोसा दिलाएं । अपने आप को बताएं कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह कितना मुश्किल होगा, आप सभी बाधाओं को हराने और विजेता के रूप में उभरने जा रहे हैं। बेहतर व्यक्ति बनें जो आप हमेशा बनना चाहते थे।

आपको हमारी फिल्मों के नायक होने की ज़रूरत नहीं है – जो खून बहते हुए मृत्यु के नजदीक होने बावजूद धीरे-धीरे अपनी आंखें खोलता है और सैकड़ों खलनायकों को नंगे हाथों से मारने के लिए मौत के मुहं से लौट आता है

आपको बस आपके अन्दर के उस अच्छाई को बाहर लाना है जो अभी तक बाहर नहीं आया है। आपके पास अगले चार दिनों में इस कठिन यात्रा को खत्म करने का अवसर है। यह सब आपके अन्दर है । आपकी इच्छाशक्ति आपका एकमात्र उद्धारक होगा।

शुभकामनाएं!