CGPSC PRELIMS PAPER-II CSAT की तैयारी कैसे करें ? विश्लेषण तथा रणनीति

CGPSC PRELIMS PAPER-II CSAT की तैयारी


17 फरवरी 2019 को आयोजित होने वाले CGPSC 2018 प्रारम्भिक परीक्षा का द्वितीय प्रश्न-पत्र(CSAT) रहने को तो सिर्फ क्वालिफाईंग है
अर्थात केवल पास करना है,prelims मेरिट मे अंक नहीं जुड़ेगा ।
फिर भी अनेक अभ्यर्थी इसी के चलते रुक जाते हैं तथा कुछ समूहों मे इसे लेकर भय का माहौल भी बना रहता है ।
इसलिए जरूरी है की इसे भी ध्यान से विशेष रणनीति के साथ तैयार किया जाए ताकि पास होना सुनिश्चित किया जा सके
और आत्मविश्वासपूर्ण ज्यादा समय पेपर 1 (सामान्य अध्ययन ) की तैयारी मे लगा सकें ।

#विश्लेषण
1) पास होने के लिए कितना अंक अर्जित करना जरूरी है -आ.श्रेणी 23% तथा अनारक्षित श्रेणी 33% अंक न्यूनतम प्राप्त करना अनिवार्य
2)पिछले पाँच वर्ष के प्रश्नो का प्रवृति

3)पिछले पाँच वर्ष के प्रश्नो मे पाठ्यक्रम के विभिन्न खंडो का औसत भार

4)गणित व रिजनिंग के अंतर्गत पुछे जाने वाले विषय/टॉपिक प्राथमिकता के क्रम मे

क्रमरिजनिंगगणित
1समस्या समाधानसारणीयन(टेबुलेसन)
2वर्णमाला(अल्फ़ाबेट)पाई चार्ट
3अक्षर व संख्या सिरीज़घड़ी
4पदानुक्रम-व्यवस्थिकरणकैलेंडर
5सादृश्यता(analogy)क्षेत्रफल-आयतन
6रक्त संबंधप्रतिशत
7दिशा-दूरीसमय-दूरी
8कूटलेखन या कुटवाचनसमय-कार्य
9न्याय(syllogism)औसत
10लुप्त संख्या या अक्षर ज्ञात करनाआयु संबंध
11कथन व निष्कर्षअनुपात-समानुपात
12शब्दों का अर्थपूर्ण क्रमरेलगाड़ी
13घन व पासानाव नदी
14वेन आरेखपाइप-टंकी
15अन्यमिश्रण
16लाभ हानी
17साझा
18भिन्न
19प्रायिकता
20ल.स. व म.स. (ज्यादा प्रश्न )
21संख्याएँ (ज्यादा प्रश्न )
22सरलीकरण (ज्यादा प्रश्न )
23संख्या पद्धति (ज्यादा प्रश्न )

रीजनिंग – क्रम 1 से अंत की ओर प्राथमिकता घटते हुए
गणित- क्रम 1 से अंत की ओर प्राथमिकता घटते हुए तथा जटिलता बढ़ते हुए ,आखिरी 20,21,22,23 से
पर्याप्त सवाल आते हैं ,परन्तु आप गणित अभ्यास छोड़ना चाहते हैं अतः इसे अनदेखा करें तथा अपने मजबूत पक्ष को ध्यान में रखते हुए अभ्यास करें .

#रणनीति
जैसा की आपको पास होने के लिए केवल 23(category) या 33(Gen) प्रश्न ही सही करने हैं । अलग-अलग स्तर के विद्यार्थियों का तरीका या
इस पेपर के प्रति दृष्टिकोण भिन्न-भिन्न हो सकता है अतः हम सभी अभ्यर्थियों को तीन समूह मे वर्गीकृत कर लेते हैं –
I) गणित से डर लगता है या बनता नहीं है ।
II) थोड़े अभ्यास उपरांत गणित बनता तो है परंतु अभ्यास नहीं कर पाए हैं या करना नहीं चाहते हैं ।
III)गणित भी आसानी से हल हो जाते हैं और पर्याप्त अभ्यास भी कर रहे हैं ।

तीसरे समूह के अभ्यर्थियों के लिए शायद कुछ बताने की आवश्यकता ही नहीं है ? वे केवल विश्लेषण के अनुरूप ध्यान देते हुए पिछले पाँच वर्षों के प्रश्नो को हल कर लें ।
अब आते हैं पहले और दूसरे समूह के अभ्यर्थियों की ओर ,जिनके लिए यदि पास होना है तो रणनीति को समझना और सुविधानुसार अनुकरण करना अनिवार्य है ।

# विशेष रणनीति समूह I और II के लिए
1) CSAT पाठ्यक्रम और पिछले वर्षों के भार के आधार पर प्राथमिकता तय कर लें
a)छत्तीसगढ़ी
b)हिन्दी
c)संचार-कौशल एवं निर्णय
d)रिजनिंग
बिना किसी प्रकार के गणित हल किए भी उपरोक्त 4 खंड CSAT के 66% प्रश्नो को समाहित करते हैं । इसमे भी रिजनिंग के कुछ सामान्य गणितीय भागों को भी छोड़ दें तो 60% हिस्सा तो माना ही जा सकता है जिसके लिए आपको लगभग गणित जानने की कोई आवश्यकता ही नहीं है ।
e)एकदम आसान तथा महत्वपूर्ण गणित खंड के टॉपिक
2) उपरोक्त खंड मे से सबसे पहले हिन्दी और रिजनिंग की ठोस तैयारी करें
3) तत्पश्चात संचार-कौशल एवं निर्णय के पुराने प्रश्नो को ध्यान से पढ़ें और उस तरह के सभी प्रश्नो का अभ्यास कर लें
4)छतीसगढ़ी मे किसी प्रकार के अभ्यास की शायद कोई आवश्यकता नहीं होगी ?
5)आप सभी स्नातक पास कर चुके हैं या उससे भी अधिक अध्ययन कर चुके होंगे अतः गणित के अतिमहत्वपूर्ण(जिससे ज्यादा सवाल आते ही हैं ) और आसान(आपसे बन भी सकता है ) 4-5 टॉपिक की तैयारी कर ही सकते हैं ,तो उन्हे बैकप
स्वरूप जरूर करलें ,
6)अंत मे जीतने भी टोपिक्स की आपने तैयारी की है कम से कम उससे CGPSC CSAT मे आए पाँच वर्षो के सवालों का अभ्यास जरूर करें ।

पाँच वर्ष के प्रश्नो का प्रवृति विश्लेषण PDF Download –CSAT ANALYSIS CHART

आपके अभ्यास हेतु रीजनिंग की किताब PDF Download करें – रीजनिंग की किताब PDF